Najrane

  • INSANITY OF PRAYERS - INSANITY OF PRAYERS Often, we start our day with prayers- willingly or not willingly, Early in the morning all of the religious institutions start chant...
    4 years ago

Sunday, October 28, 2012

"उजड़े गाव"

"उजड़े गाव"

शहराँ की इस दौड़ ने, ना जाने कितने गाम उजाड़े हैं
सुधारण खातिर अपना उल्लू, इन्हाने सारे काम बिगाड़े हैं

ला के आग महारे घराण मे, ये खुद चैन ते सोवे हैं
अपनी सुख-सुविधा खातिर, ये गामा के चैन ने खोवे हैं
बहका के हमने, महरी जिंदगी मे बीज दुखा के बोवे हैं
रे ये के जानेह,
उज्ड़ेह पड़े इन घराँ मैं, भूखे-प्यासे कितने बालक रोवे हैं

मुर्दें के ये कफ़न बेच दें, इतने तगड़े ये खिलाड़े हैं
शहराँ की इस दौड़ ने, ना जाने कितने गाम उजाड़े हैं

जो धरती है जान ते प्यारी, वो माँ महरी ये खोसे हैं
छल-कपटी समाज के निर्माता, आज म्हारे उपर धोसे हैं
खुद खा जावे लाख-करोड़, अर् म्हारी subsides ने कोसे हैं
शर्म आनी चहिय तमने, तहारा ख़ाके ताहारे उपर भोसे हैं

भूल गये उपकार हमारे, सिंघो तहारे उपर गिदर दहाड़ै हैं
शहराँ की इस दौड़ ने, ना जाने कितने गाम उजाड़े हैं
सुधारण खातिर अपना उल्लू, इन्हाने सारे काम बिगाड़े हैं


Dev Lohan-Amireaa

Friday, October 26, 2012

सिलसिले

सिलसिले

क्या बताए मुव्वकील-
वो तो खुश्बू से नफ़रत के लिया जाने जाते हैं,
और
हम अपने जहाँ मे फुलो के कदरदार कहलाते हैं.

उनके घरो मे लगती हैं महफिले,
रुख़ हमारे बदनाम बताए जाते हैं.
कहते है दाग वो जिन्हे,
वो हमारे माथे पर तिलक लगाए जाते हैं.

कैसे करले मोहबत साकी हम इस जाम से,
ये जाम ही हमारी मोहबत को बेअदबी बताते है.
गर चाहते है वो हमे इस तरह तो फेर क्यूँ हमे सताते हैं.
अरे हाँ
वो तो खुश्बू से नफ़रत के लिया जाने जाते हैं,
और
हम अपने जहाँ मे फुलो के कदरदार कहलाते हैं.

क्यों करते है दुनिया सिर्फ़ बुलंदिओ से प्यार,
बाँटते हैं जो जीत, क्यू न्ही बाँटते वो हार,
अक्सर मायूसियो मे पड़ती है, तन्हाइओ की मार.

देते है वो जखम गहरे, फिर हमारे जख़्मो पर ही हमे वो हसाते हैं,
हैं खुद वो किसी और की मोहताज, तो क्यू हम पर वो हक़ जताते हैं,

अरे भूल जाते है ह्म की,
वो तो खुश्बू से नफ़रत के लिया जाने जाते हैं,
और
हम अपने जहाँ मे फुलो के कदरदार कहलाते हैं.

Dev Lohan--Amireaa