मैं, बधाइयाँ और मानुषी छिल्लर


मैं, बधाइयाँ और मानुषी छिल्लर
-
गर्व के पल हैं, 17 साल बाद एक भारत की लड़की ने विश्व सुन्दरी के तमगे पर कब्ज़ा किया और हम सब उधेलित हो उठे, आपस में ही लग गए बधाइयाँ देने जैसे की अब हमारे दुखो का दिक्कतों का निवारण बस हो ही गया है, आज भारत ने एक ताज जीत लिया अब देश की शान में हर किसी को कसीदे पढने चाहिए, मुझे इस वजह से पढने चाहिए की मानुषी ने हमे गर्व यानि दम्ब करने का एक मोका तो दिया,
अब दम्ब और गर्व में एक लकीर मात्र का फर्क है, जहाँ आप अपनी किसी नही उपलब्धि पर गर्व कर सकते है वहीँ दुसरो की उपलब्धि पर खुद को बधाइयाँ देना और दुसरे पक्ष को लगभग अनसुना कर देना दम्ब हैं,

यक़ीनन तोर पर मानुषी ने मेहनत की है और उसने एक सोंदर्य प्रतियोगिता जीती है, उसके लिए वो बधाई की पात्र है, लेकिन ये एक सामान्य सी घटना है,
लेकिन कुछ लोगो के लिए ये घटना असामान्य बन गई है वजह है की कुछ लोगो ने मानुषी का विरोध तो नही किया लेकिन सुन्दरता के अलग आयाम बता दिया जिन पर बहस खड़ी हो गई जो की मेरे मुल्क में बिल्कुल भी नई नही है.

भारत में मोजुदा बढाई देंने वाले 95% लोग नही जानते की MISS WORLD  प्रतियोगिता कब से, किसने और क्यूँ शुरू की?
मोजुदा व्यवस्था में इसे कोन चला रहा है और क्यों?
यहाँ तक की हम अनभिघ हैं की MISS UNIVERSE और MISS WORLD दो अलग अलग चीज़ है जो अलग कंपनी संचालित करती है.

MISS WORLD की शुरुआत ERIC MORLEY नामक इन्सान ने की थी, जिसका शुरूआती नाम BIKINI CONTEST था और उद्देश्य था एक ऐसी प्रतियोगिता जहा से एरिक अपनी बिकिनी बिज़नस को बढ़ा सके और ज्यादा से ज्यादा बिकिनी और महिला शरीर को बाजारवाद खातिर इस्तमाल में ला सके, 2001 में इनकी म्रत्यु के बाद इनकी विधवा JULIA MORLEY इस व्यापार को चला रहे है, अब इनका उद्देश्य सिर्फ बिकनी नही रहा बल्कि दुनिया भर की बिना इस्तमाल की चीजों को बेचना हो गया है, दुनिया भर के विवादों के बाद भी आज भी ये सिलसिला बदस्तूर जारी है, जहाँ हर बड़ी कंपनी इसमें साझेदार है,
बहरहाल अब बात करते है दूसरी यानि  MISS UNIVERSE सोंदर्य प्रतियोगिता पर, इसकी शुरुआत की गई थी PACIFIC MILLS नाम की एक कपडा मिल ने ताकि वो अपने उत्पाद बेचने के लिए बहतर दिखने वाली लड़कियां छांट सके, बाद में अलग अलग हाथो से होती हुई इस वक़्त अमेरिका के महामहिम श्रीमान DONALD TRUMP के पास इसका मालिकाना हक है, हाँ ये वही TRUMP है जिन्होंने अपनी मुर्खता की वजह से दुनिया भर में USA का मजाक बनवा रखा है, एक प्राइवेट कंपनी इसे संचालित करती जिसका सहयोग देती है



यानि के दोनों ही प्रतियोगिता निजी सम्पति मात्र है जिनका संचालन एक परिवार मात्र करता है, इसमें काफी सारी शर्त राखी गई हैं, जिनमे एक शर्त है चरित्र है, अब चरित्र में ये बिकिनी उत्पाद वाले किस चीज़ को रखते है ये बात तो वो ही जाने  बाकि


रजनीगंधा पान मसाला से लेकर ULTRA BEVERAGE तक का पैसा इसमें लगा है,

अब शुरू करते है मुद्दे की  बात, 1994 में एक साथ मिस वर्ल्ड और मिस यूनिवर्स पर कब्ज़ा किया दो भारतीय सुन्दरियों ने, ऐश्वर्या राय और सुष्मिता सेन, वर्ष 1994 से पहले जहाँ हमारे बाथरूम में मात्र 2 से 3 बोतल होती थी, एक साधारण शैम्पू, एक साधारण तेल और एक कोई इत्र अब इन्ही बोतलों की संख्या लगभग 15 हो चुकी है, क्यूंकि ऐश्वर्या और सुष्मिता जैसा बनना है टो आपको LUX से नहाना जरुरी है, बालो में DOVE शैम्पू लगाना जरुरी है, शैम्पू के बाद एक कंडीशनर तो बेहद जरुरी है, हाथ धोने की साबुन अलग होगी, शरीर की साबुन अलग और मुंह की साबुन अलग, मुंह पर साबुन से काम नही चलेगा सुष्मिता जैसा मुंह चाहिए तो XYZ कंपनी के फसवाश से मुंह धोना जरुरी है, बालो में सिर्फ कंडीशनर और शैम्पू से काम नही चलेगा तेल के साथ सीरम भी लगाना पड़ेगा, ये सब हमे किसने बताया और किसने मनवाया, हमारे समाज की दो सुन्दरियों ने, क्यूंकि हम सब इनके जैसा बनना चाहते है तो हमे वो ही करना पड़ेगा जो ये करती है,

कब LOREAL, P&G , UNILEVER, LAKME, GODREJ हमारे बाथरूम में घुस गई पता ही नही चला आज हमारी व्यय योग्य आय का सबसे बड़ा हिस्सा ये ही खा रहे है, जबकि हम अहंकार और दम्ब के कारण पूंजीवाद का ये स्वरूप देखना ही नही चाहते,


क्या सुन्दरता मापी जा सकती है
बाज़ार ने सुन्दरता मापने के नए नए मापदंड डे दिए है, गोल नितंब, लम्बी टांगे, भरी ही जांघ, उभरे हुए होंठ यही तो है सुन्दरता, हर किसी को यही चाहिए और ऐसा बनना है तो बाज़ार में हर वो रास्ता है जो आपको ऐसा बना सकता है. लेकिन क्या सही मायनो में सुन्दरता यही है, नही सुन्दरता वो है जो मदर टेरेसा में थी.

सुन्दरता तो वो है जो फूलन देवी में थी, जो सावित्री बाई फुले में थे, झलकारी देवी में थी. लय आज तक किसी भी सुन्दरता की इन् तथाकथित देवियों ने समाज के लिए कुछ किया, हमारे सामने ही ऐश्वर्या से लेकर प्रियंका तक है, जहाँ ये मुल्क पनामा पेपर और पैराडाइस पेपर में नाम आने पर भी अमिताभ बच्चन को अपना पूजनीय समझता है वहां सुन्दरता की देवियों से सवाल करना ही पाप समझा जायेगा, 


Elenor Rossevelt बहुत पहले कह कर गए थे
small minds discuss people

Average minds discuss events

Great minds talk about ideas.


इस मुल्क में फिलहाल भीड़ के खिलाफ बोलना एक जुर्म सा बन गया है, मानुषी छिल्लर को किसान जाट कह कर खुद से उसको जोड़ने वाले मेरे साथी बताये की क्या मानुषी उन किसानो की समस्याओ को लेकर अब तक कितनी बार बोली हैं, क्या मानुषी छिल्लर की ये जीत विकास की पंक्ति में खड़े आखरी व्यक्ति को कोई फायदा पहुंचाएगी?

ये एक प्राइवेट कंपनी का निजी उपक्रम में एक निजी जीत है जिस पर मानुषी छिल्लर को बढाई डी जा सकती है लेकिन इसे किसी देश या समाज के लिए उपलब्धि बताना उतना ही शानदार है जितना की विजय माल्या को नया हवाई जहाज लेने पर देश में खुशियाँ मनाना,

एक और पक्ष यहाँ खड़ा हुआ की मानुषी डॉक्टर है और डॉक्टर बन्ने के लिए सबसे ज्यादा मेहनत करनी होती है वो इसलिए क्यूंकि हमारे मुल्क में डॉक्टर की सीट इतनी काम है की इसे मुल्क ने अपने आप मेहनत का विषय बना दिया वरना ना जाने कितने देशो में mbbs की सीट पूरी नही हो पाती और वो अपने छात्र भी दुसरे देशो से मंगवाते है,

इस तरह से एक व्यक्ति मात्र की जीत पर यूँ झूम जाना हमारी बोधिक विकलांगता ही दर्शाता है,

इन्सान की सुन्दरता उसका श्रम, संघर्ष और जिजीविषा से बनता है, तुम्हारी बस्तियों में घूम घूम कर तुम्हारा गंद साफ़ कर रही सरोज बाई किसी मायने में बदसूरत नहीं है, खेतो में बाजरे की पुलिया काटती पिंकी को सजने की फुर्सत नही है,



एक व्यक्ति की जीत पर झुमने वाले उन महान इंसानों यानि खिलाडी अभिनेता सुन्दरियों से पूछे तो सही की उन्होंने उन्होंने समाज के लिए क्या किया?

झूम जाना अची बात है लेकिन उसके लिए बहाने क्यों चाहिए,



मानुषी छिल्लर जाट समाज से है इसलिए जाट झूम उठे कल मानुषी जब बाजारवाद की हद में आकर उत्पाद बेचेगी तो उसमे जाट अपना हिस्सा ढूंढे वरना झुमने वाले लोग जा कर मानुषी छिल्लर को बोले की आपको एक मुकाम मिला है जहाँ आपकी आवाज़ दुनिया सुन लेगी टो आप मरते हुए मजदुर किसान की आवाज़ उनके कानो तक पहुँचाओ,

अगर आप ऐसा करने में विफल रहोगे तो मान लेना कि एक बार फिर बाज़ार ने आपका बेवकूफ बना दिया.

Dev Lohan “Amir”

Comments

  1. कुछ भी हो जाटों का नाम तो हुआं कोंग्रेचुलेशन छिल्लर

    ReplyDelete
  2. देव लोहान जी आपके विचारो को सलाम. बहुत सुँदर लिखा ह

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

"अज़ीज-ओ-तरीन"

गाँधी - एक सुनहरा दुस्वप्न