"तलाश"

                 "तलाश"

आँखो मे हया,चेहरे पर बचपन,हा यह उसी की दास्ताँ है
आज भी यह दिल भीड़ मे उसी मेरे अपने चेहरे को तलाशता है

कुछ शरमाई सी, कुछ घबराई से, सामने से जब वो निकलती थी
देख के उसका बला का रूप, कुद्रत भी उस से जलती थी
तारे बेच्छाने का करता था मॅन,जिस रह पर वो चलती थी
उसका कसूर कहु या नादांगी , सांज भी उस से लाली लेकर ढलती थी

उसका मासूमीयत से सरकाया गया दुपटा हमे आज भी फास्तां है
आज भी यह दिल भीड़ मे उसी मेरे अपने चेहरे को तलाशता है

अपने सहगीर्दो के साथ जब वो हमसे मिलने आए थी
एक अजब हया का नूर,वो चेहरे पर अपने लाई थी
दिल धकक करके रह गया था, इस तरह वो वहाँ शरमाई थी
वो वैसी ही थी जैसे सूरत मैने सपनो मे उसकी बनाई थी

है दूर मुझसे वो अब बहुत,पर मन बावरा उसी के पीछे भागता है
आज भी यह दिल भीड़ मे उसी मेरे अपने चेहरे को तलाशता है

आया था दौर--जुदाई जब, तो क्या बताउ हालत मेरे क्या थी
लफ़जो की कोई ज़रूरत ना थी ,हाल--आशीक़ से वो बयाँ थी
डूब गये थे सारे हम, झिल जैसी उसकी आँखें जो सुर्मया थी
ले अओ आँखों मे क़ैद करके गजब की उसके चहेरे पर हया थी

जिन गलियों से गुज़रे थे वो, 'अमीरीया' भी उन गलियों की धूल फाकता है
आज भी यह दिल भीड़ मे उसी मेरे अपने चेहरे को तलाशता है.

Dev Lohan'अमीरीया'

Comments

Popular posts from this blog

मैं, बधाइयाँ और मानुषी छिल्लर

"अज़ीज-ओ-तरीन"

गाँधी - एक सुनहरा दुस्वप्न